पीपीएफ अकाउंट क्या है? – What Is PPF Account In Hindi

पीपीएफ अकाउंट क्या है? – What Is PPF Account In Hindi? कैसे Open करें? इसके फायदे क्या-क्या हैं? PPF अकाउंट ओपन करने की ब्याज दर क्या है? (All about ppf account in hindi.) यदि आप इन सभी सवालों के जवाब की खोज में हैं तो फिर यह आर्टिकल आप ही के लिए तैयार किया गया है.

नमस्कार दोस्तों! आज भी यदि आप किसी व्यक्ति से safe investment के बारे में पूछते हैं तो अक्सर वह PPF अकाउंट ओपन करने की सलाह देता है! क्योंकि किए गए निवेश में जोखिम की संभावना कम होने के साथ-साथ बेहतर रिटर्न की ख्वाहिश में आज भी सामान्य व्यक्ति द्वारा PPF अकाउंट खोला जाता है!

PPF अकाउंट खोलना बेहद आसान है! आप इसे किसी भी डाकघर या फिर बैंक के माध्यम से आसानी खुलवा सकते हैं! लेकिन आज भी कई लोगों को PPF अकाउंट के बारे में कोई खास जानकारी नहीं है!

ऐसा इसलिए क्योंकि bank कि तरफ से या TV पर इसका अक्सर हमें advertisement देखने को नहीं मिलता! इसलिए आज हम आपको PPF के विषय में विस्तार से बताने जा रहे हैं!इस लेख को पढ़ने के बाद आपको PPF से संबंधित कई जानकारियां आसानी से मिल जाएगी।

तो चलिए फिर देखते है की आख़िर पीपीएफ अकाउंट क्या है? – What Is PPF Account In Hindi? कैसे Open करें? इसके फायदे क्या-क्या हैं? PPF अकाउंट ओपन करने की ब्याज दर क्या है? (All about ppf account in hindi.) 

पीपीएफ अकाउंट क्या है? – What Is PPF Account In Hindi

PPF का पूरा नाम Public Provident Fund होता है इसे हिंदी में लोक भविष्य निधि कहा जाता है। यह सरकार द्वारा संचालित होने वाली एक सेविंग स्कीम हैं। इस योजना का उद्देश्य देश के निवासियों को बचत के लिए प्रोत्साहित करना है! ताकि वे अपने भविष्य के लिए पैसा बचा सके और खुद के एवं परिवार के लिए सुरक्षित भविष्य तैयार कर सके।

साल 1968 में भारत सरकार ने यह सेवा unorganised क्षेत्र के उन कर्मचारियों के लिए शुरू की थी जिन्हें EPF, पेंशन इत्यादि नहीं मिलती! इस स्कीम को सरकार द्वारा Age & टैक्स मुक्त रखा गया है इसका अर्थ है कि कोई भी व्यक्ति इस योजना का लाभ ले सकता है।

लेकिन प्रत्येक व्यक्ति अपने नाम से केवल एक ही PPF अकाउंट ओपन करवा सकता है। पीपीएफ अकाउंट एक कर्मचारी ही ओपन कर सकता है!

PPF में आखिर निवेश क्यों करे?

• यह टैक्स सेविंग में मदद करता है।
• इसमें बिना टैक्स के आकर्षक ब्याज मिलता है।
• मैच्योरिटी टैक्स भी लागू नहीं होता।
• भारतीय सरकार का भरोसा मिलता है!

साथियों उपरोक्त बिंदुओं को पढ़ने के बाद अब आप आसानी से अंदाजा लगा सकते हैं कि आखिर क्यों PPF अकाउंट खुलवाना आज भी निवेशकों की पसंद है।

PPF Account Kaise Open Kare?

PPF अकाउंट खुलवाने के लिए आपके पास कई विकल्प हैं, जो निम्नलिखित हैं। आप PPF अकाउंट किसी सरकारी बैंक जैसे SBI, PNB, IDBI, ICICI Axis जैसे बैंकों के माध्यम से खुलवा सकते हैं.

आप कुछ चुनिंदा पोस्ट office से भी इस पीपीएफ अकाउंट को ओपन करवा सकते हैं। PPF अकाउंट खोलने के लिए जरूरी दस्तावेज

• पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ
• Identity Proof (आप पैन कार्ड, voter id card, आधार कार्ड इनमें से किसी एक की कॉपी का इस्तेमाल कर सकते हैं)
• एड्रेस प्रूफ (ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट, राशन कार्ड, बैंक पासबुक का इस्तेमाल कर सकते हैं )

इन दस्तावेजों के साथ साथ PPF खाता खुलवाने का फॉर्म आपके पास होना चाहिए!

PPF खाता फॉर्म को आप ऑनलाइन SBI की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर डाउनलोड भी कर सकते हैं नीचे उसका link दिया गया है!

Download

दोस्तों यहां आपका यह भी जानना जरूरी है कि PPF अकाउंट होल्डर जो शादीशुदा है वह अपने बच्चों के लिए PPF  अकाउंट ओपन कर सकते है। और अपने अकाउंट के अलावा भी 1.5 लाख तक की धनराशि उनके इस पीपीएफ अकाउंट में जमा कर सकते है।

मान लीजिए आपके दो बच्चे हैं तो दोनों के नाम पर दो PPF अकाउंट ओपन किए जा सकते हैं! लेकिन इन दोनों बच्चों के खाते में डेढ़ लाख तक की राशि पीपीएफ अकाउंट में जमा की जा सकती है! अगर इससे ज्यादा की जाती है तो फिर उस पर कोई ब्याज नहीं दिया जाएगा!और डेढ़ लाख से अधिक की जमा राशि को उनके बैंक अकाउंट पर ट्रांसफर कर दिया जाएगा!

साथ ही PPF अकाउंट को दादा-दादी भी खुलवा सकते हैं यदि बच्चों के माता-पिता जीवित हैं! हालांकि यदि कोई गलती से या जानबूझ कर अपने नाम से दो PPF खाता खुलवाता है तो ऐसे में कोई जुर्माना नहीं लगता परंतु सरकार उसका ब्याज वापस ले लेती है।

PPF अकाउंट लॉक इन पीरियड क्या है?

एक बार यदि आप अपना पीपीएफ अकाउंट ओपन करवा लेते हैं तो आपको 15 सालों तक इसमें निवेश करना होता है और 15 वर्ष की अवधि के बाद स्कीम मैच्योर हो जाती है और आप अपना पैसा ब्याज समेत निकाल सकते हैं!

सरकार द्वारा PPF अकाउंट के lock-in पीरियड को बढ़ाने का उद्देश्य ही यही है कि आप long term में निवेश कर सकें!ताकि आपको समय समय पर इस स्कीम का फायदा मिल सके।

और पेंशन ना मिलने वाले कर्मचारियों को भी रिटायरमेंट का सुख मिल सके! इसलिए इस योजना के साथ PPf अकाउंट को खोला गया था इसलिए लॉक इन पीरियड इसमें काफी ज्यादा होता है।

PPf अकाउंट से पैसे कब निकाले जा सकते हैं?

PPF अकाउंट ओपन करवाने के बाद 5 साल तक आप अपने अकाउंट में जमा राशि को निकाल नहीं सकते! हालांकि 5 वर्ष बाद आपको जरूरत है तो फिर ऐसे मैं PPF अकाउंट से पैसे निकाल सकते हैं। लेकिन इसे भी आप डायरेक्ट निकाल नहीं सकते आपको इसके लिए पहले form 2 भरकर सबमिट करना होता है आपकी एप्लीकेशन स्वीकार करने के बाद आप अपने पीपीएफ अकाउंट में जमा कुल राशि का आधा यानी 50% ही धनराशि निकाल सकते हैं.

PPF अकाउंट की अवधि कितनी होती है?

यदि 15 वर्षों तक आप अपने पीपीएफ अकाउंट में पैसा जमा करते रहते हैं और पीपीएफ खाता मैच्योर हो जाता है लेकिन आपको अभी भी पैसे निकालने की जरूरत नहीं हैं तो आप अपने खाते की वैलिडिटी को एक्सटेंड (बढ़ा) कर 5 साल और बढ़ा सकते हैं इसी तरह 5 वर्षों के पीरियड के लिए आप इसे आगे तक बढ़ा सकते हैं।

इस तरह 15 वर्षों के बाद भी आपके द्वारा पीपीएफ अकाउंट में जमा की गई धनराशि पर आपको ब्याज मिलता रहेगा।

PPF ब्याज दर?

समयानुसार PPf ब्याज दर में परिवर्तन होता रहता है लेकिन चूंकि यह सरकारी योजना है अतः सरकार द्वारा इस पर बैंक दर की तुलना में अधिक ब्याज दिया जाता है!

इसमें फिक्स डिपाजिट से अधिक ब्याज दर होती है इसकी वर्तमान ब्याज दर जानने के लिए आप इंटरनेट पर चेक कर सकते हैं। अप्रैल 2020 के अनुसार वर्तमान PPF ब्याज दर 7.10% है.

PPF में एक वर्ष में अधिकतम कितना निवेश कर सकते हैं?

पीपीएफ अकाउंट वित्तीय वर्ष के आधार पर काम करता है एक वित्तीय वर्ष के दौरान आपको 1 साल में PPf अकाउंट में प्रत्येक वर्ष कम से कम ₹500 जमा करनी जरूरी है। तथा अधिकतम आप 1 साल में डेढ़ लाख तक कि राशि अपने PPF अकाउंट में जमा कर सकते हैं।

यदि 2 पीपीएफ अकाउंट खुलवा दिया जाए तो क्या होगा?

यदि आपके पास पहले से ही एक पीपीएफ अकाउंट है और आप अपने ही नाम से एक दूसरा पीपीएफ अकाउंट open करवा देते हैं! तो आपका एक अकाउंट Deactivate कर दिया जाएगा। तथा उस पीपीएफ अकाउंट पर जमा की गई राशि पर आपको कोई ब्याज नहीं मिलेगा।

यदि पीपीएफ अकाउंट में न्यूनतम राशि जमा नहीं हुई तो क्या होगा?

कई लोग अक्सर सवाल करते हैं कि यदि वे PPF अकाउंट ओपन करवाने के बाद किसी साल अपने खाते में न्यूनतम राशि जो कि ₹500 है वह भी जमा नहीं करते हैं तो ऐसे में क्या होगा? उनका खाता डीएक्टिवेट हो जाता है और जब भी आप अगले वर्ष उस खाते को एक्टिव करवाना चाहते हैं तो उसके लिए आपको पिछले वर्ष के ₹500 इसमें जमा करने होते हैं।

हालांकि आपका PPF अकाउंट in active भी है तो भी आपको पीपीएफ अकाउंट में जमा की गई धनराशि पर  ब्याज मिलता रहेगा।

PPF अकाउंट में Tax बेनिफिट?

यदि आप PPf अकाउंट खुलवा कर इसमें निवेश करते हैं तो आपको उस पर भारी छूट मिलती है। प्रतिवर्ष आपको डेढ़ लाख रुपए तक का टैक्स बेनिफिट इसके अंदर मिल जाता है यह आयकर अधिनियम की धारा 80 C के तहत है।

NRI PPF अकाउंट खोल सकते हैं?

जी नहीं केवल देश के नागरिक ही पीपीएफ अकाउंट खोल सकते हैं! NRI व्यक्ति नहीं हालांकि यह संभव है कि यदि व्यक्ति ने एनआरआई बनने से पूर्व पीपीएफ अकाउंट को ओपन किया था ऐसे में उस PPF अकाउंट की मेच्योरिटी तक इसमें निवेश किया जा सकता है।

उसके बाद इस PPF अकाउंट में जमा की गई धनराशि पर आपको कोई ब्याज नहीं मिलता!

2020 पीपीएफ अकाउंट के लिए जारी किए गए नए नियम:

2020 में आए नए नियम के अनुसार पहले आप पीपीएफ अकाउंट में एक वित्त वर्ष के दौरान सिर्फ 12 बार ही अपने पीपीएफ अकाउंट में पैसे जमा कर सकते थे! परंतु अब यह नियम सरकार द्वारा हटा दिया गया है।

साथ ही नए नियम के मुताबिक कर्ज पर ली गई धनराशि पर ब्याज की दर में कमी आई है! अब लगने वाली ब्याज दर ppf अकाउंट पर मिलने वाली ब्याज दर से एक परसेंट अधिक होगी! जो कि पहले 2 परसेंट थी!

जैसा कि हम जानते हैं पीपीएफ अकाउंट की मैच्योरिटी 15 वर्ष की होती है तो यदि आप इस सीमा को पार कर जाते हैं! और 5 वर्ष के लिए PPF अकाउंट की अवधि को बढ़ाना चाहते हैं! तो इससे पूर्व की मैच्योरिटी की अवधि खत्म हो आपको 1 साल पहले यानी कि चौथे साल ही फॉर्म-4 भरकर जमा करना होगा और 5 साल और पीपीएफ अकाउंट होल्डर की अवधि बढ़ा दी जाएगी।

आपके PPF अकाउंट का यदि एड्रेस बदला गया है तो ऐसे में  समय से पूर्व PPF अकाउंट को बंद हो सकता लेकिन इससे पूर्व आपको पीपीएफ अकाउंट बंदे करने के लिए कुछ विषम परिस्थितियां होनी आवश्यक थी।

• यदि अचानक पीपीएफ अकाउंट होल्डर की मृत्यु हो जाती है तो ऐसे स्थिति में उस अकाउंट के नॉमिनी या फिर कानूनी वारिस को कर्ज पर लगाई गई ब्याज चुकाना अनिवार्य होगा।

• सरकार चाहे तो पीपीएफ अकाउंट खोलने के 5 साल के बाद उस अकाउंट को बंद कर सकती है! यदि जीवनसाथी या माता-पिता के इलाज के लिए पैसा ना होने की स्थिति में यदि उसे अकाउंट बंद करना पड़ रहा हो या फिर बच्चों की उच्च शिक्षा हेतु पैसों की जरूरत है ऐसे में सरकार उस पीपीएफ अकाउंट को बंद करने की अनुमति दे सकती है।

इसके अलावा एक और कारण है जिससे सरकार पीपीएफ अकाउंट होल्डर के अकाउंट को कभी भी बंद कर सकती है !की अगर कोई पीपीएफ अकाउंट होल्डर किसी दूसरे देश की नागरिकता ले लेता है तो ऐसी स्थिति में भी उसके अकाउंट की मैच्योरिटी होने से पूर्व ही उस अकाउंट को बंद किया जा सकता है!

साथ ही नया नियम यह भी है कि पीपीएफ अकाउंट होल्डर को लोन लेने के बाद उसे 36 महीनों के भीतर चुकाना होता है? यदि ऐसा वह नहीं करता है तो ऐसी स्थिति में उस अकाउंट होल्डर!को प्रतिवर्ष 6% की दर से ब्याज चुकाना होगा.

PPF अकाउंट खुलवाने के बाद तीन से छठे वर्ष तक के बीच व्यक्ति लोन के लिए आवेदन कर सकता है। तो साथियों 2020 के यह नए अपडेट आपको जरूर ध्यान में रखने चाहिए यदि आप एक पीपीएफ होल्डर है।

उम्मीद है की अब आपको PPF अकाउंट से जुड़ी पूरी जानकारी मिल चुकी होगी, और आप जान गये होगे की पीपीएफ अकाउंट क्या है? – What Is PPF Account In Hindi? कैसे Open करें? इसके फायदे क्या-क्या हैं? PPF अकाउंट ओपन करने की ब्याज दर क्या है? (All about ppf account in hindi.)

यह भी पढ़े:

Hope की आपको पीपीएफ अकाउंट क्या है? – What Is PPF Account In Hindi? का यह पोस्ट पसंद आया होगा, और हेल्पफ़ुल लगा होगा।

अगर आपके पास इस पोस्ट से रिलेटेड कोई सवाल है तो नीचे कमेंट करे. और अगर पोस्ट पसंद आया हो तो सोशल मीडिया पर शेयर भी कर दे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *