डीमैट अकाउंट क्या है और कैसे खोलें

Demat Account Kya Hai or Kaise Khole in hindi? डीमैट अकाउंट क्या है? (What is Demat Account in Hindi) डीमैट अकाउंट के प्रकार? डीमैट अकाउंट का उपयोग? डीमैट अकाउंट कैसे ओपन करें? (All about demat account in hindi) इन सभी सवालों के जवाब आपको इस आर्टिकल में मिलने वाले हैं।

नमस्कार पिछले लेख में आपने विस्तार से जाना था Trading अकाउंट क्या है? और इस लेख में आप जानेंगे Demat अकाउंट के बारे में।

साथियों यदि आप stock market की थोड़ी बहुत जानकारी रखते हैं तो आपको पता होगा stock मार्केट में निवेश करने हेतु Trading अकाउंट और Demat Account दोनों ही बेहद जरूरी है। क्योंकि एक बार शेयर खरीदने के बाद डिमैट अकाउंट का काम शुरू हो जाता है? इसलिए यदि आप डीमेट अकाउंट के बारे में विस्तार से जानना चाहते हैं!

तो इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें! मुझे पूरी आशा है आपको Demat अकाउंट से संबंधित कई जानकारियां मिल जाएंगी। तो चलिए देखते है की आख़िर डीमैट अकाउंट क्या है? (What is Demat Account in Hindi) डीमैट अकाउंट के प्रकार? डीमैट अकाउंट का उपयोग? डीमैट अकाउंट कैसे ओपन करें? (All about demat account in hindi)

डीमैट अकाउंट क्या है? – What Is Demat Account In Hindi

सरल शब्दों में समझें तो डीमैट अकाउंट एक ऐसा इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम है, जहां एक निवेशक के सभी shares तथा अन्य सिक्योरिटीज इलेक्ट्रॉनिक फॉर्मेट में स्टोर होती हैं। Demat अकाउंट का मुख्य उद्देश्य खरीदे गए सभी shares और वे shares जो physical रूप से इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में तब्दील किए गए हैं, उन्हें Hold करना होता है। Demat अकाउंट का पूरा नाम Dematerialised Account है।

दरअसल जब भी इन्वेस्टर्स द्वारा शेयर को खरीदा जाता है, तो वह शेयर उनके Demat अकाउंट में स्टोर हो जाता है और आवश्यकता के मुताबिक जब शेयर को बेचना हो तो वह शेयर उनके डीमेट अकाउंट से Debit हो जाता है। ऑनलाइन ट्रेडिंग के लिए डिमैट अकाउंट होना अनिवार्य है, एक डीमेट अकाउंट एक बैंक अकाउंट की तरह है जिस तरह बैंकखाते में आप की पासबुक में credit & Debit सभी records होते हैं, इसी तरह स्टॉक मार्केट में जब आप shares को खरीदते या बेचते हैं तो वह शेयर आपके डीमेट अकाउंट से ही डेबिट & क्रेडिट होते हैं!

आशा है आखिर यह डीमैट अकाउंट क्या है अब आपको पता चल चुका होगा? बता दे भारत में कई ऐसी depositories जो फ्री डिमैट अकाउंट ओपन करने की सुविधा देती हैं  NSDL and CDSL through intermediaries / Depository Participant / Stock Broker जैसे Angel Broking.

बात करें चार्जेस की तो डीमेट अकाउंट होल्डर को यह चार्जेस डिपॉजिटरी एवं स्टॉक ब्रोकर की टर्म्स एंड कंडीशन, subscriptions के type के मुताबिक विभिन्न हो सकते हैं। एक डीमेट अकाउंट में निवेशक के शेयर्स के अलावा government securities, exchange-traded funds, bonds and mutual funds इन्वेस्टमेंट्स भी hold की जा सकती हैं।

demat अकाउंट एक इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम है स्टॉक मार्केट में! डीमेट अकाउंट के आने के बाद से papers तथा डाक्यूमेंट्स को भौतिक रूप से हैंडल, मेंटेन करने की समस्या दूर हो गई अब हम आसानी से आज mobile से ही डीमेट अकाउंट को कहीं भी कभी भी एक्सेस कर सकते हैं!

यदि हम डिमैट अकाउंट के कार्य को और भी सरल एवं विस्तार से समझें तो मान लीजिए आप किसी कंपनी के शेयर्स को खरीदते हैं और उन्हें अपने अकाउंट पर ट्रांसफर करना है तो पहले के समय में आपको कंपनी की तरफ से शेयर्स के दस्तावेज दिए जाते थे. और इस प्रक्रिया में आप जितनी बार शेयर खरीदते थे तो कंपनी द्वारा उसके लिए बार-बार अलग से दस्तावेज बनाने पड़ते थे और इसी को सरल एवं सुविधाजनक बनाने के लिए भारत में NSE द्वारा trading के लिए लिए वर्ष 1996 में इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम तैयार किया गया जिसे हम डीमेट अकाउंट के नाम से जानते हैं।

आज जब भी एक निवेशक किसी कंपनी के शेयर को खरीदता है, तो वे कुछ ही समय में इलेक्ट्रॉनिक फॉरमैट में डीमेट अकाउंट में आ जाते हैं। इसलिए यदि आपको आज के समय में स्टॉक मार्केट में निवेश करना हो तो आपके लिए एक Demat अकाउंट होना must है, तो चलिए दोस्तों हम जान लेते हैं.

इससे पहले कि हम डीमेट अकाउंट को open करने की प्रक्रिया को विस्तार से जानें! पहले हम जानेंगे उन सभी जरूरी डाक्यूमेंट्स के बारे में जो Demat अकाउंट ओपन करने के लिए जरूरी होते हैं। हालांकि आपको बता दें सभी कंपनियों में डीमेट अकाउंट ओपन करने के लिए एक जैसी ही प्रक्रिया एवं डाक्यूमेंट्स की आवश्यकता होती हैं।

और आप एक बैंक अकाउंट की भांति अपने लिए डेबिट अकाउंट ओपन कर सकते हैं आपको पेमेंट अकाउंट ओपन करने के लिए निम्नलिखित दस्तावेजों की आवश्यकता होगी.

Required Documents For Demat Account In Hindi

Proof of Identity

पहचान के लिए आप इनमें से कोई भी दस्तावेज दे सकते हैं।

• पैन कार्ड (Pan Card) फोटोग्राफ के साथ।
• आधार कार्ड वोटर आईडी कार्ड पासपोर्ट लाइसेंस।

Address Proof

आप इसके लिए वोटर आईडी कार्ड, राशन कार्ड, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस किसी भी डॉक्यूमेंट को दे सकते हैं।

Proof of Income

आप इनकम के प्रूफ के तौर पर इनमें से किसी भी दस्तावेज को दे सकते हैं।

• आप अपनी सैलरी से form-16 को सबमिट कर सकते हैं।
• बैंक स्टेटमेंट दे सकते हैं जिसमें आपके पिछले छह माह की आय का विवरण दिया गया हो!
• या फिर आप टैक्स फिलिंग के दौरान सबमिट की गई Income Tax Return (ITR) Acknowledgement slip की फोटो कॉपी भी दे सकते हैं।

तो साथियों उपरोक्त दस्तावेजों को सबमिट करते समय इनकी एक्सपायरी डेट को जरुर चेक कर आपको यह ध्यान रखना चाहिए कि जिस डेट में आप डॉक्यूमेंट सबमिट कर रहे हैं डाक्यूमेंट्स उस टाइम तक वैलिड है या नहीं।

Demat Account Kaise Khole?

Choose A Depository Participant

नया डीमेट अकाउंट ओपन करने के लिए आपको Depository Participant (DP) चुनाव करना होगा! जहां से आप अपना Demat अकाउंट ओपन करवाना चाहते हैं।

भारत में कई ऐसे डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट हैं, उनके बारे में भी हम आगे जानेंगे.

Attach Documents

DP का चुनाव करने के बाद दूसरे चरण में आपको DP द्वारा दिए गए डिमैट अकाउंट ओपन करने के लिए मांगी गई ओपनिंग फॉर्म में सभी आवश्यक Details भरनी होंगी।

साथ ही आपको पासपोर्ट साइज एवं अन्य सभी जरूरी दस्तावेज भी अटैच करने होंगे। वेरीफिकेशन के लिए आपको ओरिजिनल documents भी साथ ले जाने होंगे! आप के डाक्यूमेंट्स को चेक करने के बाद DP द्वारा रूल्स एंड रेगुलेशंस के अलावा एग्रीमेंट एवं कुल भुगतान की जानकारी दे दी जाएगी।

अब चौथे स्टेप में आपकी वेरीफिकेशन की जाएगी। इसमें आपके द्वारा ओपनिंग फॉर्म में दिए गए डाक्यूमेंट्स एवं पर्सनल डिटेल्स के आधार पर आप को वेरीफाई किया जाएगा यह वेरीफिकेशन DP की तरफ से कॉल या वीडियो कॉलिंग के माध्यम से हो सकती है। इस प्रकार वेरीफिकेशन कंप्लीट होने के बाद आपकी एप्लीकेशन प्रोसेस पूर्ण होने के बाद आपको dp की तरफ से अकाउंट नंबर और क्लाइंट आईडी दे दी जाएगी।

Login in Your Demat Account

अब आप इसी इसी नंबर और क्लाइंट आईडी के जरिए अपने डीमेट अकाउंट को ऑनलाइन कहीं से भी कभी भी अपने स्मार्टफोन या कंप्यूटर पर एक्सेस कर पाएंगे.

अब जब उपरोक्त प्रक्रिया पूरी हो जाती है और आप एक डीमेट अकाउंट होल्डर बन जाते हैं तो आपको अपने अकाउंट की मेंटेनेंस के तौर पर सालाना भुगतान करना पड़ता है! आपके द्वारा Demat अकाउंट के जरिए की गई buying और selling के लिए ट्रांजैक्शन चार्ज देना होता है।

इसके अलावा यदि आप ऑनलाइन ट्रेडिंग नहीं कर रहे हैं, और आपके शेयर फिजिकल फॉर्म में है तो डीपी आपसे शेयर्स की dematerialisation के लिए अलग से चार्ज लेगा। तो साथियों इस तरीके से आप अपना डिमैट अकाउंट ओपन कर उसका इस्तेमाल कर सकते हैं। हालांकि आपको जरूरी नहीं अपने डीमेट अकाउंट में कोई मिनिमम बैलेंस रखना पड़े आप डीमेट अकाउंट को बिना शेयर होल्डिंग्स के भी ओपन कर सकते हैं!

डीमैट अकाउंट के लाभ? – Benefits Of Demat Account In Hindi

अब हम जानेंगे उन सभी सुविधाओं के बारे में जो डीमेट अकाउंट में एक इन्वेस्टर को मिलती हैं!

Transfer Shares

एक निवेशक कभी भी शेयर्स को सेल कर सकता है अतः एक डीमेट अकाउंट आपके शेयर्स को होल्ड करने के साथ-साथ Delivery Instruction Slip (DIS) के जरिए शेयर्स को ट्रांसफर करने का कार्य करता है इस स्लिप में लेनदेन को सिक्योर, सुविधाजनक बनाने के लिए सभी उचित डिटेल्स डालनी होती हैं।

Dematerialization & Rematerialization

यदि आप एक डीमेट अकाउंट होल्डर है तो विभिन्न फॉर्म्स में securities के conversion का कार्य बेहद आसान हो जाता है! उदाहरण के तौर पर आप अपने फिजिकल शेयर्स को आसानी से इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में कन्वर्ट कर सकते हैं, और इसी प्रकार यदि आपको आवश्यकता पड़ती है तो आप सिक्योरिटीज के इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म को जब चाहे फिजिकल पेपर में भी कन्वर्ट कर सकते हैं, जोकि डीमेट अकाउंट में फि गई एक सुविधा होती है।

Multiple Access

एक डिमैट अकाउंट का इस्तेमाल आप ऑनलाइन भी कर सकते हैं , इसीलिए डीमेट अकाउंट होल्डर होने के नाते मल्टीपल एक्सेस का फायदा मिलता है आप कहीं भी कभी भी investing, trading, monitoring and other security related operation को अपने मोबाइल कंप्यूटर लैपटॉप के जरिए आसानी से कर सकते हैं।

Corporate Actions

क्या आप जानते हैं जब भी एक कंपनी अपने निवेशकों को dividends, interest or refunds देती हैं तो सभी अकाउंट होल्डर्स को इन सुविधाओं का एक्सेस मिल जाता है। क्योंकि डीमेट अकाउंट में यह पूरी प्रोसेस ऑटोमेटिकली हो जाती है इसके अलावा उस कॉरपोरेट द्वारा लिए गए एक्शन से जैसे कि इक्विटी शेयर में  stock split, right shares या bonus issue सभी शेयर होल्डर के डीमेट अकाउंट में अपडेट हो जाते हैं अतः इस प्रकार देखा जाए तो एक डीमेट अकाउंट आपको कहीं सारी एडिशनल सुविधाएं भी प्रदान करता है।

Freezing Demat account

डीमेट अकाउंट धारकों के पास यह ऑप्शन होता है कि वे अपने अकाउंट को कुछ समय तक फ्रीज कर सके! इस स्थिति के दौरान इन्वेस्टर्स के डीमेट अकाउंट में से शेयर्स को डेबिट, क्रेडिट नहीं किया जा सकता अतः लेन-देन की स्थिति से दूर रहने के लिए यह किया जाता है।

लेकिन बता दें फ्रीजिंग के इस ऑप्शन को लेने के लिए डिमैट अकाउंट होल्डर के पास specific quantity of securities उसके अकाउंट में होने चाहिए।

Faster And Less Combersum

हमारे देश में National Securities Depository Limited (NSDL नियमित तौर पर डीमेट अकाउंट होल्डर को बेहतर सुविधाएं प्रदान के लिए नई नई अपडेट चलाता रहता है। अतः कई बार सिलिप को सबमिट करने में काफी अधिक समय लग जाता है इस समस्या को दूर करने के लिए डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट को इंस्ट्रक्शन स्लिप इलेक्ट्रॉनिक  फॉर्म भेजी जा सकती है। जिससे पूरी प्रक्रिया आसान फास्ट हो जाती ह.

Loan Facility

उपरोक्त फायदों के साथ साथ एक डीमेट अकाउंट होल्डर के  पास डीमेट अकाउंट में जो सिक्योरिटीज मौजूद हैं, इनके जरिए आपको बैंक की तरफ से विभिन्न प्रकार का लोन मिल सकता है!

डीमैट अकाउंट के प्रकार – Types Of Demat Account In Hindi

1. Regular Demat Account

इसका इस्तेमाल वे अकाउंट होल्डर्स कर सकते हैं, जो निवेशक इंडिया में रहते हैं!

2. Repatriable Demat Account

इस डीमैट अकाउंट को ओपन एवं इस्तेमाल वे निवेशक करते हैं जो NRI है और उनका fund विदेश में ट्रांसफर किया जा सकता है, साथ ही बता दें इस टाइप के डीमेट अकाउंट के लिए NRI (जो अकाउंट भारत में ओपन होता है) बैंक अकाउंट एसोसिएटेड होना चाहिए!

3. Non-Repatriable Demat Account

यह एक NRI डीमेट अकाउंट होता है इसमें जो फंड होता है वह देश के NRI निवासियों को ट्रांसफर नहीं किया जा सकता लेकिन इस तरह के डेबिट अकाउंट के लिए NRO बैंक (non-resident ordinary) अकाउंट एसोसिएट होना चाहिए.

Demat Account कहां से खुलवाएं?

Demat अकाउंट के बारे में जान लेने के बाद यदि आप डीमेट अकाउंट खोलने का मन बना रहे हैं! तो ऐसे में मार्केट में आपको विभिन्न डीमेट अकाउंट प्रोवाइडर्स की लिस्ट मिल जाएगी। लेकिन उनमें से कौन सा अधिक लोकप्रिय एवं बेहतर है यह डिसाइड करने में आपको कन्फ्यूजन हो सकती है!

इसलिए आपकी इस कंफ्यूजन को दूर करने के लिए यहां पर आपको TOP 10 डीमेट अकाउंट प्रोवाइडर्स की लिस्ट एवं सामने उनकी रेटिंग भी दी गई है!

  • Zerodha
  • Angel Broking
  • Sharekhan
  • Edelweiss
  • 5Paisa
  • Kotak Securities
  • IIFL
  • Motilal Oswal
  • ICICI Direct
  • Karvy

तो साथियों इन Top 10 Demat अकाउंट प्रोवाइडर्स के बारे में जानने के साथ ही आपको clear कर दें कि यह आपकी पूर्ण इच्छा पर निर्भर करता है! आप मार्केट रिसर्च एवं सर्विस comparison के आधार पर Demat अकाउंट किसी भी प्रोवाइडर से खुलवा सकते हैं!

तो साथियों डीमैट अकाउंट क्या है? (What is Demat Account in Hindi) डीमैट अकाउंट के प्रकार? डीमैट अकाउंट का उपयोग? डीमैट अकाउंट कैसे ओपन करें? (All about demat account in hindi) आपको इस विषय पूर्ण जानकारी इस लेख में मिली होगी।

यह भी पढ़े:

Hope की आपको डीमैट अकाउंट क्या है और कैसे खोलें – What Is Demat Account In Hindi? का यह पोस्ट पसंद आया होगा, और हेल्पफ़ुल लगा होगा।

अगर आपके पास इस पोस्ट से रिलेटेड कोई सवाल है तो नीचे कमेंट करे. और अगर पोस्ट पसंद आया हो तो सोशल मीडिया पर शेयर भी कर दे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *